लालू के लाल कृष्ण अर्जुन बनकर राजद के लिए बन रहे ढ़ाल

बिहार में लोकसभा चुनाव प्रचार अंतिम चरण में है। इस दरम्यान तेजस्वी और तेजप्रताप के बीच का मनमुटाव खत्म हो रहा है और सारे गिले शिकवे को भूलकर लालू प्रसाद यादव के दोनों लाल गले मिल रहे हैं और ये तस्वीर मीडिया की सुर्खियों में है। लंबे समय से अलग-अलग रह रहे राजद के सुप्रीमाे लालू प्रसाद यादव के दोनों लाल तेज प्रताप यादव एवं तेजस्वी यादव ने एक साथ चुनाव प्रचार किया। कहीं न कहीं ये एक नयी राजनीति की ओर इशारा कर रही है। दोनों भाइयों के बीच की खटास अब मिठास में बदलती दिख रही है।

राजद के दोनों युवा ब्रिगेड के नेता तेज प्रताप और तेजस्वी की जोड़ी ने रविवार को बिहार में तीन जगहों पर भोजपुर, नालंदा और पाटलिपुत्र में महागठबंधन प्रत्याशी के समर्थन में चुनाव प्रचार किया। जब पत्रकारों ने दोनों भाईयों को एक साथ देखा तो तपाक से सवाल कर दिया कि दूरियां नजदीकियों में कैसे बदल गई। इस पर तेजस्‍वी ने मीडिया कर्मियों को शक का इलाज कराने की नसीहत दे डाली।

लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान इससे पहले दो बार दोनों भाइयों का एक साथ चुनाव प्रचार का कार्यक्रम निर्धारित हुआ लेकिन वे साथ नहीं जा सके। दोनों भाई राजद प्रत्‍याशी और अपनी बहन मीसा भारती के चुनाव प्रचार के दौरान एक मंच पर जरूर आए और एक साथ प्रचार पर निकलने का यह पहला मौका है।चुनाव प्रचार के दौरान भोजपुर के जगदीशपुर में जनसभा में तेज प्रताप और तेजस्वी यादव मंच पर एक साथ दिखे। तेज प्रताप ने दोनों भाईयों को कृष्ण और अर्जुन का रूप बताया। इस दौरान जब भीड़ से ‘करण-अर्जुन’ की आवाज आई तो उसे नकारते हुए तेज प्रताप ने कहा कि वे दोनों भाई ‘करण-अर्जुन’ नहीं, ‘कृष्ण-अर्जुन’ हैं। तेज प्रताप ने कहा कि वे कृष्ण के वंशज हैं और उनका हीरो केवल तेजस्वी यादव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 5 =