स्पॉट फिक्सिंग मामले में श्रीसंत बरी

भारतीय क्रिकेट के तेज गेंदबाज एस श्रीसंत सहित अन्य दो क्रिकेटरों को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है और वह बहुत जल्द क्रिकेट के मैदान पर वापस धूम मचाते दिखेंगे। आईपीएल के मैच फिक्सिंग के मामले में बीसीसीआई के अनुशासन समिति ने क्रिकेट खेलने पर आजीवन पाबंदी लगा दिया था। केरल हाईकोर्ट ने श्रीसंत पर लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को बरकरार रखा था। श्रीसंत ने हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। बताया जा रहा कि सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अशोक भूषण और के एम जोसेफ की बेंच ने बीसीसीआई के अनुशासन समिति को 3 महीने के दौरान से संत को दी गई सजा पर दोबारा विचार कर सकती है कोर्ट ने साफ कर दिया कि सजा की अवधि तय करते समय श्रीसंत का पक्ष सुना होगा। राजस्थान रॉयल्स के आईपीएल 2013 के खिलाड़ी रहे श्रीसंत पर मैच के दौरान स्पॉट फिक्सिंग का आरोप लगा था जिसकी वजह से उन पर क्रिकेट खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। समाचार एजेंसी के मुताबिक स्पाट फिक्सिंग में दो और खिलाड़ी अंकित चौहान और अजित चंडीला भी शामिल थे। श्रीसंत ने ने बताया 2 साल में मेरा क्रिकेट कैरियर पर असर पड़ा और इस दौरान मैंने काफी कष्ट झेला। उन्होंने कहा कि बार-बार यही सोचता रहा कि मुझे ही क्यों निशाना बनाया गया अब राहत मिली है तो मैं काफी खुश हूं। श्रीसंत ने बताया कि मैं पूरी तरह क्रिकेट के लिए फिट हूं और क्रिकेट मेरी रोजी रोटी है। बीसीसीआई ने अपनी तरफ से कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद उनका फैसला नहीं बदलेगा बीसीसीआई ने बताया कि किसी भी दूसरी आपराधिक कार्यवाही का बीसीसीआई के फैसले पर असर नहीं पड़ता। बीसीसीआई के फैसले उसकी अपनी अनुशासनात्मक कदमों पर निर्भर करता है। वह इसमें बदलाव नहीं करेंगे कोई भी बीसीसीआई फिलहाल कुछ भी कहने से कतरा रही है। श्रीसंत 2007 में विश्व कप टी 20 और 2011 में एकदिवसीय वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के सदस्य थे। तेज गेंदबाज के तौर पर श्रीसंत ने 27 टेस्ट मैच में 87 और 53 एक दिवसीय मैचों में 75 विकेट लिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − 4 =