सोमवार को इस विधि विधान से करें भोलेनाथ की पूजा, मिलेगा मनोवांछित फल

भगवान शिव की पूजा का विधान है शिव ऐसा कहा जाता है कि भगवान शिव सबसे भोले है और पूजा करने पर सबसे ज़ल्दी प्रसन्न होते है। इसीलिए कहा जाता है कि यदि आप कम समय में मनवांछित फल प्राप्त करना चाहते है

डेस्क। आज सोमवार हैं और इस दिन भगवान शिव की पूजा का विधान है शिव ऐसा  कहा जाता है कि  भगवान शिव सबसे भोले है और पूजा करने पर सबसे ज़ल्दी प्रसन्न होते है।  इसीलिए कहा जाता है कि यदि आप  कम समय में मनवांछित फल प्राप्त करना चाहते है तो शिव जी की आराधना और पूजा करे। शिवशंकर की पूजा-अर्चना से कई जन्मों का फल प्राप्त होता है। यदि विधिविधान से पूजन किया जाए तो निश्चित ही मनोवांछित फल प्राप्त होता है। 

यह खबर भी पढ़े: 

पूजन के लिए सामग्री

शिव जी की उपासना के लिए पूजन शुरू करने से पहले तांबे का पात्र, तांबे का लोटा, दूध, अर्पित किए जाने वाले वस्त्र। चावल, अष्टगंध, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, चंदन, धतूरा, अकुआ के फूल, बिल्वपत्र, जनेऊ, फल, मिठाई, नारियल, पंचामृत, पान और दक्षिणा एकत्रित कर लें।

ऐसे करें पूजा 

-प्रात: सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान करें।

-फिर शुद्ध वस्त्र धारण कर भगवान शिव का पंचोपचार या षोडषोपचार पूजन करें।

-अन्न ग्रहण ना करें।


– क्रोध, काम, चाय, कॉफी पर नियंत्रण रखें।

-दिनभर ॐ नम: शिवाय का जाप करें।


-शिव का पूजन सदा उत्तर की तरफ मुंह करके करना चाहिए क्योंकि पूर्व में उनका मुख पश्चिम में पृष्ठ भाग एवं दक्षिण में वाम भाग होता हैं।


– शिव के पूजन के पहले मस्तक पर चंदन अथवा भस्म का त्रिपुंड लगाना चाहिए।


-पूजन के पहले शिव लिंग पर जो भी चढ़ा हुआ हैं उसे साफ कर देना चाहिए।

-शिव चालीसा, शिव स्तोत्र, शिव तांडव, शिव महिम्न, रूद्राष्टक, शिव भजन का श्रद्धापूर्वक वाचन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + 9 =